Author Raj Kumar Yadav

Raj Yadav is a Guest Post contributor at AchhiBaatein.Com, he also have published some other Hindi Kavita.

इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना रमजान है, इस्लाम में खुदा की इबादत के लिए रमज़ान के पाक महीने को महत्व दिया जाता है। रमज़ान या रमदान एक ऐसा विशेष महीना है जिसमें इस्लाम में आस्था रखने वाले लोग नियमित रूप से नमाज़ अता करने के साथ-साथ रोज़े यानि कठोर उपवास (उपवास के दिन सूर्योदय से पहले कुछ खा लेते हैं जिसे सहरी कहते हैं। दिन भर न कुछ खाते हैं न पीते हैं। शाम को सूर्यास्त के बाद रोज़ा खोल कर खाते हैं जिसे इफ़्तारी कहते हैं) रखे जाते हैं। इस मास को नेकियों और इबादतों का महीना यानी पुण्य और उपासना का मास माना जाता है। खुदा का पसंदीदा है रमजान का महिना बडे पाकीज़ा है रमजान का महिना, खुदा का पसंदीदा है रमजान का महिना। इसा माह में कुरान नाजिल हुआ, इस कुरान का है रमजान का महिना। फज्र और मगरिब के नमाज़ों में, खुब गूंजता है रमजान का महिना। अब तू सुधर जाओ मोमिन! आखिरी मौका है रमजान का महिना। महरूम और जरुरतमंदो के लिए, बरकत लाता है रमजान का महिना। सादगी से भरा जिंदगी जीना, तुमको सिखाता है रमजान का महिना। फरिश्ते उतरते है इस माह में “राज़”, खुद एक फरिश्ता है रमजान का महिना। –…

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Subscribe करें।

कृपया यहाँ Subscribe करने के बाद अपनी E-mail ID खोलें तथा भेजे गये Verification लिंक पर Click करके Verify करें।