Be More Productive At Work : कार्यक्षमता को बेहतर बनाने के कुछ आसान उपाय

3

Some Easy Ways to Be More Productive At Work
कार्यक्षमता को बेहतर बनाने के कुछ आसान उपाय | Kaam acche se kaise karen

अपने शरीर की समय सारिणी को समझें।
आपके शरीर को आप ही समझ सकते हैं, अपने दिन की समय सारिणी अपने शरीर की प्राकृतिक लय के अनुसार व्यवस्थित करें जब आपको लगता हैं कि आप अपनी ऊर्जा के अपने उच्चतम स्तर पर है जब जटिल कार्य हाथ में लें कई लोगो के लिए यह समय morning हो सकता हैं और कुछ लोग evening में अच्छा कर सकते हैं। यह सब लोगो में अलग-अलग होता हैं और बाकी के समय में अपने नियमित कार्य करे, हर एक आदमी की अपनी सीमा होती हैं अगर वह अपनी समय-सीमा और शरीर के according अपना daily routine सेट कर लेता हैं तो वह बेहतर कर सकता हैं इसलिए अपनी खुद की समय-सीमा को समझना महत्वपूर्ण है।

प्राथमिक कार्य को प्राथमिकता दें।
कार्यों को प्राथमिकता देने में काफी समय और मानसिक प्रयास लगता हैं इसलिए जब आप अपने आपको refresh और cool महसूस करे तब अपने दिन की अथवा week के कार्यो को प्राथमिकता के according सेट करे और देखे कौनसा काम ज्यादा important तथा इस planning में समय-सीमा और उस कार्य को करने का सबसे अच्छा टाइम कौनसा रहेगा इस बात का भी ख्याल रखे।

दिनचर्या की स्थापना करें।
यदि कार्यो को एक निश्चित तरीके से routine बना कर किया जाए तो हमारा दिमाग बहुत से कार्यो को एक साथ आसानी से manage कर सकता हैं, इसलिए अपनी दिनचर्या की स्थापना करे जैसे कि new email आते ही हमारा inbox हमें show कर देता हैं आप भी अपने लिए कुछ ऐसे routines बनाओ की कार्य एक के बाद एक होते चले जाए, एक काम complete हो तो दूसरा काम start होने के लिए तैयार रहे इससे आप नये ideas के लिए time निकाल पाएंगे।

एक जैसे कार्यो का Batch बनाये।
यदि हम एक जैसे कार्यो का group बनाये तो इससे हमारा मस्तिष्क जटिल कार्यो को भी आसनी से पूरा कर सकता हैं, एक जैसे कार्यो का एक बैच बनाये और उसको एक के बाद एक कार्य करे इससे time की बचत होगी और कम कम समय में अच्छे से हो पायेगा जैसे कि हम ईमेल करते समय सभी ईमेल एक साथ भेजते हैं और फ़ोन करते समय भी हम सारे calls एक के बाद एक करते हैं।

निश्चित अंतराल में आराम करिए।
कई बार जटिल कार्य जैसे कि लेखन करते समय या रणनीति बनाते समय हमारा बहुत ज्यादा मानसिक प्रयास लगता हैं और हमारी सोचने की मानसिक सीमा एक समय के लिए सीमित हो जाती हैं, इसलिए उस समय यह जरुरी हो जाता हैं कि हम थोडा सा आराम करे और मस्तिष्क को भी थोडा आराम दे, इससे जब हम दोबारा से काम करेंगे तो पहले से जयादा fresh और उर्जावान महसूस करेंगे।

कार्यो की सूची बनाईये।
जब आपको ऐसा लगे कि अभी मैं कंसन्ट्रेट नहीं कर पा रहा हूं, और अच्छा काम नहीं कर पा रहा हूं daily दिन में कई बार ऐसा लगता हैं जब ऐसा लगे तो वो काम करे जो बिल्कुल आसान हो और जल्दी से ख़तम हो सके, जैसे की documents को सेट करना प्रिटिंग टास्क complete करना या फिर हलकी रिसर्च करना फालतू सामान को इधर उधर साफ करना ..या कंप्यूटर सिस्टम में files मैनेज करके रखना इन सारे कामे से productivity में काफी effect पड़ता हैं।

बहुआयामी (बहुत से कार्यो को एक साथ करने वाला) न बने।
हमारा मस्तिष्क ऐसा नहीं हैं कि वह बहुत सारे कार्यो को एक साथ कर सके, मतलब हम एक साथ कई कार्यो को नहीं कर सकते और जल्दी-जल्दी कामो को switch भी आसानी से नहीं कर सकते इसलिए एक बार में एक ही काम करो और उस पर फुल concentrate करो, इससे दो फायदे होगे एक तो वह काम complete हो जायेगा और दूसरा वो काम अच्छे से हो पायेगा और आप important काम याद रख पाएंगे।

रोजाना दिमाग़ को खाली करे।
बहुत सारी बातें दिमाग में न रखे, निश्चित समय में ही वह काम याद करे व उसको क्रियान्वित करे जब वह काम बंद कर रहे हो तो उससे related सारी information बार-बार याद न करे और इससे आप दूसरा काम ढंग से कर पायेगे और दिमाग fresh और cool रहेगा हमारा दिमाग बहुत सारी चीजो को एक साथ नहीं रख सकता और वह भी अपनी limit के according ही डाटा सेव रखता हैं इसलिए दिमाग में वो ही बात remind करे जो की आप अभी कर रहे हो।

नियमित कार्यो का मज़ा ले।
कार्य को अक्सर टालने के कारणों में से एक यह भी है, कि लोग उस कार्य से ऊब जाते हैं और अपने आप को उस काम के लिए प्रेरित नहीं कर पाते जैसे की जो कार्य daily होता हैं भले ही वह काफी अच्छा हो पर उसे बार-बार उसी तरीके से करने से व्यक्ति ऊब जाता हैं लेकिन वो काम तो करने ही होते हैं इसलिए नियमित कार्यो को मज़ा लेकर करें जैसे की गाने सुनकर लोगो के साथ बातचीत करते हुए और नये वातावरण में बैठकर आप daily कार्यो को बिना ऊबे कर सकते हैं।

अतिविलंबता को जांचे।
मानो या न मानो, विलंबता हमेशा उत्पादकता का दुश्मन नहीं है, यह एक महत्वपूर्ण संकेत है कि आप खुद से पूछिए आपका विचार उस कार्य को करने का अभी तक पूरी तरह से बना है या नहीं? कार्य को करने की योजना सही बनी है या नहीं क्या उस task को करने से आपको कोई फायदा होने वाला हैं क्या वो काम वास्तव में पूरा करने के लायक भी है? इन अब बातों पर ध्यान केन्द्रित करे इससे आपको काफी help मिलेगी।

अन्य POST भी पढ़ें

—————

Note: The above very motivational post “Some Easy Ways to Be More Productive At Work ” is not my original creation; I have read it from one of the website & translated it in Hindi.

Comments के माध्यम से बताएं कि कैसी लगी ये POST, दोस्तों अगर पसन्द आए तो अपने facebook wall पर friends के साथ शेयर करना न भूले

Save

About Author

Mahesh Yadav is a software developer by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts, before that he had completed BE and MBA in Operations Research. He have vast experience in software programming & development.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss

3 Comments

    • शिवराज जी, कमेंट करने के लिए धन्यवाद। सर, आप ऐसा कोई भी काम चुन सकते हैं जिसमें कि आपको काफी नॉलेज हो और वो काम आपका अच्छा लगता हो या फिर यूँ कहे के वो काम आपकी होबीज़ में हो, तो काम आप अच्छे से कर पाओगे और थकान भी नहीं होगी और आपको अगर नॉलेज हैं उस फील्ड में तो आप मार्किट के उतार-चढाव को ढंग से समझ पाओगे।

Leave A Reply