भारत-रत्न सर्वोच्च सम्मान के बारें में कुछ जानकारियां

3

भारतरत्न (Bharat Ratna)

मित्रो, भारत रत्न के बारें में तो आप सबने सुना ही होगा, आज मैं आपके समक्ष भारत-रत्न से जुडी हुई रोचक जानकारी प्रस्तुत कर रहा हूँ आशा हैं आपको पसंद आएंगी।

भारत रत्न देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। यह सम्मान असाधारण राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है।

यह पुरस्कार 2 जनवरी 1954 को प्रारम्भ किया गया था। यह पुरस्कार भारत के प्रथम राष्ट्रपति श्री राजेन्द्र प्रसाद द्वारा घोषित किया गया था। अन्य अलंकरणों के भाँति इस सम्मान को भी, नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयोग नहीं किया जा सकता है। शुरू में इस सम्मान को ‘मरणोपरांत’ नहीं दिया जाता था, किंतु 1955 के बाद यह निर्णय लिया गया और यह मरणोपरांत भी दिया जाने लगा। तत्पश्चात् 13 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया। सुभाष चन्द्र बोस को घोषित सम्मान वापस लिए जाने के उपरान्त मरणोपरान्त सम्मान पाने वालों की संख्या 12 मानी जा सकती है।

भारत-रत्न सर्वोच्च सम्मान के बारें में कुछ जानकारियां
Some very interesting facts and information about “Bharat – Ratna” award in Hindi

  • भारत रत्न 26 जनवरी को भारत के राष्ट्रपति द्वारा दिया जाता है।
  • सबसे पहला पुरस्कार प्रसिद्ध वैज्ञानिक चंद्रशेखर वेंकटरमन को दिया गया था। तब से अनेक विशिष्टजनों को अपने-अपने क्षेत्र में उत्कृाष्ट्ता और अतुलनीय योगदान देने के लिए यह पुरस्कार दिया गया।
  • इसका कोई लिखित प्रावधान नहीं है कि ‘भारत रत्न’ केवल भारतीय नागरिकों को ही दिया जाएगा।
  • यह पुरस्कार स्वाभाविक रूप से भारतीय नागरिक बन चुकी ‘एग्नेास गोंखा बोजाखियू’, जिन्हें हम मदर टेरेसा के नाम से जानते हैं, को दिया गया।
  • दो अन्य् अभारतीय “ख़ान अब्दुलगफ़्फ़ार ख़ान” को 1987 में और “नेल्सन मंडेला” को 1990 में यह पुरस्कार दिया गया।
  • मरणोपरांत सर्वप्रथम लालबहादुर शास्त्री को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।
  • 13 जुलाई, 1977 से 26 जनवरी, 1980 तक इस पुरस्कार को स्थगित कर दिया गया था।
  • एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है, यह भी अनिवार्य नहीं है कि भारतरत्न सम्मान हर वर्ष दिया जाए।
  • उल्लेखनीय योगदान के लिए भारत सरकार द्वारा दिए जाने वाले सम्मानों में भारत रत्न के पश्चात् क्रमशः पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री हैं।

“भारत-रत्न” पदकस्वरूप (Specifications)

मूल रूप में इस सम्मान के पदक का डिजाइन 35 मिलिमीटर व्यास वाला गोलाकार स्वीर्ण पदक था। जिसमें सामने  सूर्य बना था, ऊपर हिन्दी में भारत रत्न लिखा था और नीचे फूलों का गुलदस्ता था और पीछे की तरफ़ राष्ट्रीय चिह्न और आदर्श-वाक्य(सत्यमेव जयते) लिखा था। एक वर्ष बाद इस डिजाइन को बदल दिया गया था और आज भी इसके इसी स्वरुप(design) को काम में लिया जाता हैं, इस पदक के डिज़ाइन को बदल कर तांबे के बने पीपल के पत्ते (जोकि लगभग 59 mm लम्बा , 48 mm चौड़ा और 3.2 mm पतला) पर प्लेटिनम का चमकता सूर्य बना दिया गया, और पीछे का हिस्सा पहले जैसा ही रखा गया। जिसके नीचे चाँदी में लिखा रहता है “भारत रत्न” और यह सफ़ेद फीते (2-इंच-चौडाई लगभग 51 mm) के साथ गले में पहना जाता है।

भारत रत्न के साथ  जुड़े अन्य परिलब्धियां एवम भत्ते

  1. Free first class flight journey anywhere in India.
    भारत में कहीं भी प्रथम-श्रेणी की  मुफ्त हवाई-उड़ान(यात्रा)
  2. Free first class train journey.
    नि: प्रथम श्रेणी की ट्रेन यात्रा।
  3. Pension equal to or 50% of Prime Minister of India’s salary.
    भारत के प्रधानमंत्री वेतन के बराबर या 50% की पेंशन।
  4. Can attend the Parliament meetings and sessions.
    संसद की बैठकों और सत्र में भाग लेने की अनुमति।
  5. Precedence at par with Cabinet Rank.
    कैबिनेट रैंक के बराबर पूर्वता (योग्यता)।
  6. Eligible for Z-category protection, if needed.
    जेड श्रेणी की सुरक्षा के लिए पात्र है, अगर जरूरत  हो तो।
  7. Special Guest in Republic Day and Independence Day.
    गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस में विशेष अतिथि।
  8. Status equal to VVIP.
    वीवीआईपी के बराबरी का दर्जा।

*** कुछ अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां ***

  • भारत-रत्न  कीअनुशंसा प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रपति को भेजी जाती हैं।
  • भारत रत्न, पद्म विभूषण, पद्म भूषण, पद्म श्री आदि किसी भी पुरस्कार में कोई धन-राशि नहीं दी जाती हैं। पुरस्कार में व्यक्ति पदक के साथ, प्राप्तकर्ता और राष्ट्रपति द्वारा हस्ताक्षरित एक सनद (प्रमाण पत्र) प्राप्त करता है।
  • भारत-रत्न प्राप्त करने वाला व्यक्ति/नागरिक का अलंकरण पूर्व प्रधानमंत्रियों, संघ की कैबिनेट मंत्रियों, राज्य सभा और लोक सभा, भारत के योजना आयोग के उपाध्यक्ष और राज्यों के संबंधित मुख्यमंत्रियों में मुख्य विपक्षी नेता के साथ संयुक्त रूप से सातवें स्थान में आता है ( Holders of the Bharat-Ratna decoration comes in seventh position jointly with former Prime Ministers, Cabinet Ministers of the Union, Leaders of Chief Opposition in the Rajya Sabha and Lok Sabha, Deputy Chairman of Planning Commission of India and the respective Chief Ministers of States.)

अब तक कुल 45 लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया गया है जिसमें दो विदेशी नागरिक (ख़ान अब्दुलगफ़्फ़ार ख़ान और नेल्सन मंडेला) भी शामिल हैं।

गृह – मंत्रालय (भारत सरकार) द्वारा भारत-रत्न के बारें में दी गई जानकारी के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैं।
http://mha.nic.in/hindi/sites/upload_files/mhahindi/files/Scheme-BR%28H%29.pdf

अन्य General Knowledge वाले पोस्ट भी पढ़े

—————–

Note: Friends, भारत-रत्न से सम्बंधित उपरोक्त सभी जानकारी मैंने Google से तथा कुछ पुस्तकों और पत्रिकओं से जुटाई हैं तथा मैंने यथासम्भव सही और सटीक जानकारी देने के पूरी कोशिश की हैं सावधानी बरतने के बावजूद भी यदि ऊपर दिए गए किसी भी वाक्य या तथ्य में आपको कोई त्रुटि मिले तो कृपया क्षमा करें और comments के माध्यम से अवगत कराएं।

निवेदन: कृपया comments के माध्यम से यह बताएं कि यह लेख “भारत-रत्न सर्वोच्च सम्मान के बारें में कुछ जानकारियां” आपको कैसी लगा, अगर आपको यह पसंद आए तो दोस्तों के साथ (facebook, twitter, Google+) share जरुर करें।

Save

Share.

About Author

Mahesh Yadav is a software developer by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts, before that he have completed BE and MBA in Operations Research. He have vast experience in programming and development.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss

3 Comments

  1. मानस कुमार सिंह on

    आप की दी हुई सभी जानकारीयाॅ महत्वपूर्ण है, धन्यवाद

Leave A Reply

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Subscribe करें।

Signup for our newsletter and get notified when we publish new posts for free!