Top 10 tallest mountains in the world दुनिया के 10 सबसे ऊँचे पर्वत

0

दोस्तों, आज जानते हैं दुनिया के 10 सबसे ऊंचे पहाड़ों Tallest Mountains के बारें में, जिनके Top आसमान से लगता हुआ प्रतीत होता है। अक्सर हम सोचते रह जाते हैं, कि क्या इतनी ऊँची पहाड़ों की चोटियों पर पहुंचना संभव है? बेशक,लेकिन ये काम जूनून से भरा शख्स ही कर सकता है। एशिया में स्थित ये सभी पहाड़ समुद्र स्तर से 8000 मीटर से अधिक की ऊंचाई पर हैं। आप सभी को यह तो पता ही होगा कि माउंट एवेरेस्ट दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत हैं लेकिन इसके बाद दूसरा बड़ा पर्वत बहुत कम लोग ही जानते होंगे। आइये जानते हैं इन बड़े बड़े और ऊँचे पर्वतों कि बहुत ही सुन्दर जानकारियां।

1. माउंट एवरेस्ट (Mount Everest)

पर्वत शिखर: एवरेस्ट
देश: नेपाल (चीन और नेपाल के बीच अन्तराष्ट्रीय सीमा)
ऊंचाई (मीटर में): 8848 मीटर (29,029 फीट)
प्रथम आरोहण: 29/05/1953 (नेपाल के तेन्जिंग नॉरगे के साथ न्यूज़ीलैंड के एडमंड हिलेरी)

mount_everest_achhibaatein
माउंट एवरेस्ट दुनिया का सबसे ऊँचा पर्वत शिखर है। पहले इसे XV के नाम से जाना जाता था, नेपाल में इसे स्थानीय लोग सागरमाथा(स्वर्ग का शीर्ष) के नाम से जानते हैं, वहीँ तिब्बत में इसे ‘चोमोलंगमा’ (पर्वतों की रानी) कहते हैं। वैज्ञानिक सर्वेक्षण में कहा जाता है कि इसकी ऊंचाई प्रतिवर्ष 2 सेंटीमीटर के हिसाब से बढ़ रही है। इसके शिखर की ऊंचाई मौसम के हिसाब से कम-ज्यादा होती रहती हैं (सितम्बर में सबसे ज़्यादा तथा मई में पश्चिमोत्तर से बहकर आने वाली जाड़े की तेज़ हवा के कारण घटकर सबसे कम)। 1955 में भारत ने इसका सर्वे किया और ऊंचाई 8,848 मीटर बताई। 1830 से 1843 तक भारत के सर्वेयर जनरल रहे, अंग्रेज़ कर्नल सर जॉर्ज एवरेस्ट के सम्मान में इस चोटी को माउंट एवरेस्ट नाम दिया गया। एवरेस्ट शिखर की ओर जाने वाले मार्ग का दो-तिहाई भाग वायुमंडल के उस हिस्से में हैं जहाँ ऑक्सिजन का स्तर कम हैं। उपरी ढलानों पर ऑक्सिजन की कमी, तेज हवाओं तथा अत्याधिक ठण्ड के कारण, किसी प्रकार का वानस्पतिक या प्राणी जीवन सम्भव नहीं हैं।

2.K2 (Mount Godwin-Austen)

पर्वत शिखर: K2 (के-टू)
देश: पाकिस्तान (चीन और पाकिस्तान के बीच अन्तराष्ट्रीय सीमा)
ऊंचाई(मीटर में): 8,611 मीटर (28,251 फीट)
प्रथम आरोहण: 31/07/1954 (इटली के लाचेदेल्ली और कोम्पान्योनी)

mountain_k2_achhibaatein
पाक-अधिकृत कश्मीर के गिलगित-बाल्टिस्तान और चीन के शिनजिआंग की सीमा पर काराकोरम पर्वत श्रंखला में यह चोटी स्थित है। ये चोटी माउंट एवरेस्ट के बाद विश्व की दूसरी उच्चतम पर्वत चोटी है। के2 को माउंट एवरेस्ट की तुलना में सबसे अधिक कठिन और खतरनाक माना जाता है। के2 पर अब तक की 246 लोगों ने चढ़ाई की है जबकि माउंट एवरेस्ट पर 2436 लोगों ने चढ़ाई कर चुके हैं।

3. कंचनजंघा (Kangchenjunga)

पर्वत शिखर: कंचनजंघा
देश: नेपाल (सिक्किम के उत्तर पश्चिम भाग में नेपाल और भारत के बीच सीमा पर)
ऊंचाई(मीटर में): 8,586 मीटर (28,169 फीट)
प्रथम आरोहण: 25/05/1955 (ब्रिटेन के जो ब्राउन और जॉर्ज बैण्ड)

mountain_kanchanjunga_achhibaatein
दार्जिलिंग से 74 किलोमीटर उत्तर पश्चिम में स्थित कंचनजंघा विश्व की तीसरी सबसे ऊँची चोटी है। कंचनजंघा नाम की उत्तपत्ति तिब्बती मूल के चार शब्दों से हुई है, जिन्हें आमतौर पर कांग-छेन-दजों-ङ्गा लिखा जाता है। सिक्किम में इसका अर्थ विशाल हिम की पांच निधियां माना जाता है। नेपाल में यह पर्वत कुंभकरन लंगूर कहलाता है।

4. ल्होत्से (Lhotse)

पर्वत शिखर: ल्होत्से
देश: नेपाल (नेपाल, तिब्बत और चीन की सीमा पर)
ऊंचाई(मीटर में): 8,516 मीटर (27,940 फीट)
प्रथम आरोहण: 18/05/1956 (स्विट्ज़रलैंड के फ्रिट्ज लुच्सिंगेर, अर्न्स्ट रिस)

mountain-lhotse_achhibaatein
ल्होत्से विश्व की चौथी सबसे ऊँची चोटी है जो एवरेस्ट से दक्षिण घाटी से जुडी हुई है। इस शिखर के अगल-बगल दो और शिखर हैं। कंचनजंघा की तरह ही यह भी माउंट एवरेस्ट की पड़ोसी चोटी है।

5. मकालू (Makalu)

पर्वत शिखर: मकालू
देश: नेपाल (नेपाल, तिब्बत और चीन की सीमा पर)
ऊंचाई(मीटर में) : 8,481 मीटर (27,825 फीट)
प्रथम आरोहण: 15/05/1955 (फ्रांस के जीन और लियोनेल टेर्री)

mountain_makalu_achhibaatein
मकालू एवरेस्ट विश्व की पांचवीं सबसे ऊँची शिखर है। यह एवरेस्ट से 19 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में स्थित है। यह अलग-अलग चोटियां हैं जो चार मुखी पिरामिड के समान दिखती हैं।

6. चो ओयू (Cho Oyu)

पर्वत शिखर: चोयु
देश: नेपाल (नेपाल और चीन की सीमा पर)
ऊंचाई(मीटर में): 8,201 मीटर (26,906 फीट)
प्रथम आरोहण: 19/10/1954 (ऑस्ट्रेलिया के हर्बर्ट तिची, जोसफ जोच्लेर, पसंग दवा लमा)

mountain_chooyu_achhibaatein
समुद्र के स्तर से ऊपर 8,201 मीटर (26,906 फीट) विश्व का छठा सबसे ऊँचा पर्वत है। तिब्बती में चो ओयू का मतलब ‘मरकत देवी’ है। यह पर्वत तिब्बत-नेपाल सीमा पर माउंट एवरेस्ट की महालांगुर हिमालय से 20 किलोमीटर की खुंबू उप-धारा के पश्चिम में स्थित है।

7. धौलागिरी (Dhaulagiri)

पर्वत शिखर: धौलागिरी
देश: नेपाल
ऊंचाई(मीटर में): 8,167 मीटर (26,795 फीट)
प्रथम आरोहण: 13/05/1960 (स्विस / नेपाली / ऑस्ट्रियाई Kurt Diemberger, A. Schelbert, E. Forrer, Nawang Dorje, Nyima Dorje)

dhaulagiri_mountain_achhibaatein
उत्तर-पश्चिमी नेपाल में काली नदी के उद्गम के समीप सफेद बर्फ से हमेशा चमचमाने वाली धौलागिरी चोटी नेपाल में है और इस भाग में अनेक हिमानियाँ हैं। यह हिमालय की चार प्रमुख चोटियों में से एक है और किसी समय इसे ही संसार की सर्वोच्च चोटी समझा जाता था। नेपाली में धौलागिरी पर्वत का मतलब (सफ़ेद सुन्दर पहाड़) से है। यह विश्व की सातवीं सबसे ऊँची छोटी है, इस चोटी की चढ़ाई बेहद दुश्वार मानी जाती है

8. मनास्लु (Manaslu)

पर्वत शिखर: मनास्लु
देश: नेपाल
ऊंचाई(मीटर में): 8,163 मीटर (26,781 फीट)
प्रथम आरोहण: 09/05/1956 (जापानी Toshio Imanishi और Gyalzen Norbu टीम द्वारा)

manaslu-mountain_achhibaatein
समुद्रतल से 8,163 मीटर (26,781 फीट) पर दुनिया का आठवां सबसे ऊँचा पर्वत है, यह नेपाल के पश्चिम मध्य भाग में नेपाली हिमालय में स्थित है। मनास्लु संस्कृत शब्द मनासा से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘बुद्धि या आत्मा’ मनास्लु का अर्थ है ‘पर्वत की आत्मा’

9. नंगा पर्वत (Nanga Parbat)

पर्वत शिखर: नंगा पर्वत
देश: पाकिस्तान (पाकिस्तान द्वारा नियंत्रित गिलगित-बल्तिस्तान क्षेत्र)
ऊंचाई(मीटर में): 8,126 मीटर (26,660 फीट)
प्रथम आरोहण: 03/07/1953 (ऑस्ट्रेलिया के हरमन बुहल)

mount_nanga_parbat_achhibaatein
नंगा पर्वत हिमालय पर्वत श्रंखला के सुदूर पश्चिमी भाग में स्थित है। बीसवी सदी के पहले हिस्से में आठ हज़ार मीटर से ऊंचे पहाड़ों में इस एक पहाड़ पर सब से ज्यादा मौतें हुई हैं नंगा पवर्त की चढ़ाई सबसे मुश्किल बताई जाती है, इसे दुनिया का “क़ातिल पहाड़” (Killer Mountain) भी कहा जाता है क्योंकि इसपर चढ़ने वाले बहुत से लोगों की जाने जा चुकी हैं। शिखर का इस्लामी नाम डिमिर है जिसका मतलब है “पहाड़ों के राजा”। यह K2 के साथ-साथ खड़ा हुआ है, आज तक कोई भी सर्दियों के मौसम में इस पर्वत पर चढ़ नही सका है।

10. अन्नपूर्णा (Annapurna)

पर्वत शिखर: अन्नपूर्णा
देश: नेपाल
ऊंचाई(मीटर में): 8,091 मीटर (26,545 फीट)
प्रथम आरोहण: 03/06/1950 (फ्रांस के मौरिस हेर्जोग और लुइस लाचेनल)

annapurna-mountain_achhibaatein
उत्तर मध्य नेपाल में स्थित अन्नपूर्णा पर्वत विश्व का दसवां सबसे बड़ा पर्वत है। इस पर चढ़ाई करना दुनिया की सबसे खतरनाक चोटियों पर चढ़ाई करने के बराबर है। माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई करने वाले आम तौर पर पहले अन्नपूर्णा पर अभ्यास करते हैं

विश्व के अन्य पर्वत शिखर

पर्वत शिखर देश ऊचाई (मीटर)
ग्रेशरब्रम पाकिस्तान 8068 मीटर
गोसाईथान चीन 8018 मीटर
नंदादेवी भारत 7817 मीटर
राकोपोशी पाकिस्तान 7788 मीटर
कामेट भारत-चीन 7756 मीटर
नाम्वावर्वा चीन 7756 मीटर
गुर्लमान्धाता चीन 7728 मीटर
तिरिचमीर पाकिस्तान 7728 मीटर

 

ऐसे ही और Interesting Facts (Tallest Mountains in the World) पढ़े और दोस्तों के साथ शेयर करें


Note: ऊपर दी हुई समस्त जानकारी (दुनिया के सबसे ऊँचे पर्वत और उनके बारें में आश्चर्यजनक तथ्य) मैंने इन्टरनेट और गूगल से सर्च करके काफी विश्लेषण और शोध करके जुटाई हैं फिर भी इसमें गलतियों कि सम्भावना हो सकती हैं यदि आपको ऊपर दिए गए किसी भी वाक्य या FACTS में कोई त्रुटि मिले तो कृपया क्षमा करें और comments के माध्यम से अवगत कराएं।

दोस्तों, ये “Top 10 tallest mountains in the World” POST आपको कैसे लगी, इस बारे में हमे अपने विचार नीचे comments के माध्यम से अवश्य दे। हमारी पोस्ट को E-mail से पाने के लिए आप हमारा फ्री ई-मेल सब्सक्रिप्शन प्राप्त कर सकते है।

यदि आपके पास Hindi में कोई article, inspirational or motivational story, best quotes of famous personalities या कोई अच्छी जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया [email protected] हमे E-mail करें पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ AchhiBaatein.com पर PUBLISH करेंगे।

About Author

Mahesh Yadav is a software developer by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts, before that he had completed BE and MBA in Operations Research. He have vast experience in software programming & development.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss

Leave A Reply

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Subscribe करें।

कृपया यहाँ Subscribe करने के बाद अपनी E-mail ID खोलें तथा भेजे गये Verification लिंक पर Click करके Verify करें।