Browsing: हिन्दी कविताएं

Poems In Hindi, हिन्दी कविता, विभिन्न विषयों पर कविताएँ, कविता का सीधा सम्बन्ध हृदय से होता है काव्य के द्वारा कही गई बात का असर तेज और स्थायी होता है। कविता के दो पक्ष होते हैं। आन्तरिक यानि भाव पक्ष और बाह्य यानि कला पक्ष। छायावाद की प्रमुख कवियत्री महादेवी वर्मा ने कविता का स्वरूप स्पष्ट करते हुए कहा कि –

“कविता कवि विशेष की भावनाओं का चित्रण है।”

आइये पढ़ते हैं कुछ ऐसी ही रचनाएँ जो सीधा ह्रदय को स्पंद करती हैं, आशा हैं आपको ये सारी रचनाएं बहुत पसंद आएगी।

हिंदी शेर और शायरी
By 3
तुम हो भी पास मेरे और नहीं भी हो तुम – Poem By Raj Kumar Yadav

एक अनजाना प्यार न जाने कब से पल रहा है मेरी आँखों में, तुम हो भी पास मेरे और नहीं भी हो तुम सपनों में रोज तुम बतियाने को फैसला करता हूं मेरी ख्वाहिशें सिर्फ सिमटी रह जाती है मेरे…

हिन्दी कविताएं
By 0
Hindi Poem – कब का वक्त गुजर गया है तेरा

Hindi Poem, Hindi Kavita, Hindi कविता, सुन्दर रचना, गीत क्षणिकाएं व हिंदी काव्य कब का वक्त गुजर गया है तेरा तु कहां खोया है अभी ..बन्देया देख दरिया में कितना पानी टघर गया.. देख चढ़ता दिन भी उतर गया बिखरा फूल…

General
By 3
Motivational Poem कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती

Motivational Poem In Hindi, Koshish karne walo ki haar nahi hoti, Sohan lal dwivedi motivational hindi poem दोस्तों, निराशा में जिया जीवन निरर्थक हैं आखिर लोग निराश क्यों होते हैं? हार गए इसलिए? पैसा डूब गया? प्यार नहीं मिला? सफल…

हिन्दी कविताएं
By 1
तू कितना दे पाएगी मुझे अनाज़? किसान की दुर्दशा

Poor Indian Farmers, Bhariya Kisaan, Hindi Poem on Indian Farmers, Agriculture, Farmers’ suicides in India मित्रो, हम सभी जानते हैं कि भारत शुरू से ही एक कृषि प्रधान देश रहा है। यहाँ के 70% लोग किसान हैं। वे हमारें देश…

हिन्दी कविताएं
By 1
रमजान Ramzaan : खुदा का पाक महीना

इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना रमजान Ramzaan है, इस्लाम में खुदा की इबादत के लिए रमज़ान के पाक महीने को महत्व दिया जाता है। रमज़ान या रमदान एक ऐसा विशेष महीना है जिसमें इस्लाम में आस्था रखने वाले लोग नियमित रूप…

हिन्दी कविताएं
By 1
बढ़ते क़दमों को न रुकने दो तुम – Motivational Poems in Hindi

Motivational Poems in Hindi About Success, About Farmers, About our Goal बढ़ते क़दमों को न रुकने दो तुम, मंजिल तेरे सामने उसे हासिल कर लो तुम बढ़ते क़दमों को न रुकने दो तुम, मंजिल तेरे सामने उसे हासिल कर लो…

1 2
नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss