Colonel Harland Sanders, KFC …मुझे 1009 बार रिजेक्ट कर दिया गया

1

Colonel Harland Sanders, KFC (Kentucky Fried Chicken) के founder का नाम तो काफी लोग जानते होंगे, जो कि शायद आज किसी परिचय का मोहताज नहीं हैं, लेकिन उनकी सफलता के पीछे संघर्षो की दास्ताँ शायद आप में से काफी नहीं जानते होंगे।

आपको चिकन पसंद हैं या नहीं, मैं नहीं जानता लेकिन मुझे ये पता हैं और यकीन हैं कि उनके संघर्षो और सफलता की कहानी आपको जरुर पसंद आएगी और आप उससे motivate भी होंगे।

मुश्किल तो इस दुनिया में कुछ भी नहीं, फिर भी लोग अपने इरादे तोड़ देते है।
अगर सच्चे दिल से हो चाहत कुछ पाने की, तो सितारे भी अपनी जगह छोड़ देते है।

कर्नल सांडर्स तथा K.F.C. की सफलता की कहानी
कर्नल सांडर्स, एक ऐसे इंसान, जो जीवन भर संघर्ष करते रहे और अपने अंतिम दिनों में सफलता की एक ऐसी मिसाल पेश की, जो कि अपने आप में एक बहुत ही बड़ी उपलब्धि हैं।

– जब वे 5 साल के थे तब उनके पिता का देहान्त हो गया।
– कक्षा 7 में ही (16 साल की उम्र में) ही उनको स्कूल छोड़ना पड़ा।
– उसके बाद उनकी माँ ने दूसरी शादी कर ली तो सांडर्स घर से भाग गए।
– 17 साल की उम्र तक उन्हें 4 नौकरियों से निकाला जा चुका था।
– 18 साल की उम्र में शादी हो गई।
– 18 से 22 वर्ष की आयु तक कंडकटर की नौकरी करी।
– Army में गए वहां से भी निकाल दिया गया।
– Law स्कूल में दाखिला लेने गए, Reject कर दिया।
– लोगों के Life insurance(बीमा) का काम शुरू किया – लेकिन असफलता हाथ लगी।
– 19 साल की उम्र में पिता बन गए।
– 20 साल की उम्र में उनकी पत्नी उनको छोड़ के चली गई और बच्ची को अपने साथ ले गई।
– एक होटल में बावर्ची(Cook) का काम किया।
– अपनी खुद की बेटी से मिलने के लिए उसे Kidnap करने की कोशिश की – और फेल रहे।
– 65 साल की उम्र में रिटायर हो गए।
– रिटायरमेंट के बाद पहले ही दिन सरकार की ओर से मात्र 105 डॉलर का चेक मिला।
– कई बार आत्महत्या करने की कोशिश तक की।

एक बार एक पेड़ के नीचे बैठ कर अपनी जिंदगी के बारे में लिख रहे थे तभी अहसास हुआ कि अभी बहुत तो बहुत कुछ करना बाकी है और काफी कुछ किया जा सकता हैं

कर्नल सैंडर्स का अपना छोटा सा Business था जिससे इनकी रोजी-रोटी चलती थी, लेकिन वहां पर highway बनने के कारण इनका business बिलकुल बन्द हो गया। कुछ ही दिनों में इनकी जमा पूँजी(105 डॉलर) भी खत्म हो गई और खाने के भी लाले पड़ गये। अब उनकी उम्र भी लगभग 65 वर्ष हो चुकी थी और हाल यह था की खोने के लिए अब उनके पास में कुछ भी नहीं बचा था। वो एक शानदार कुक(बाबर्ची) थे, और यही से उन्होंने अपने नए जीवन की शुरुआत करी और हार न मानने की जिद पर अड़ गए। उनको चिकन बनाना अच्छा लगता था और वह चिकन पर अलग अलग experiment करते थे, और उनको अपने चिकन प्रयोग पर बहुत भरोसा था, वो मसाले और प्रेसर कुकर लेकर अपनी चिकन बनाने का प्रयोग की मार्केटिंग करने निकल पड़े।

उन्होंने अलग-अलग रेस्टोरेंट के मालिको से मिलना शुरू किया। समय ने फिर भी उनका साथ नहीं दिया, अपनी चिकन रेसिपी Fried Chicken को अलग अलग लोगों और अलग अलग होटलों में पेश किया, लेकिन ज़्यादातर लोगो ने Fried Chicken को नकार दिया।

लेकिन उनकी जिद तो जिद थी तो अपने ऊपर उपर पूरा विश्वास भी, हार नहीं मानी और लगातार अपने कार्य में लगे रहे, सीखते रहे और कोशिश करते रहे।
आपको यह सुनकर हैरानी होगी कि वह 1009 बार Interview में असफल रहे और एक हजार नौ (1009) लोगो ने उनको रिजेक्ट कर दिया, तब जाकर अंतत: उनको सफलता मिल ही गई।

एक हजार नौ बार रिजेक्ट होने के बाद, एक हजार नौ बार ना सुनने के बाद उनको उनकी पहली हाँ मिली।

सोचो दोस्तों, 60 की उम्र में, ऐसी उम्र जब लोग रिटायर हो जाते हैं, इस उम्र में जब लोग दुबारा उठने से हार ही मान लेते हैं, घर में आराम की ज़िंदगी गुज़ारना चाहते हैं । उससे भी ज़्यादा उम्र (62 वर्ष) में उन्होंने अपने चिकन प्रयोग के साथ एक ऐसा बिज़नस खड़ा कर दिया। जो आज 120 देशों में है, 18000 से ज्यादा KFC के रेस्टोरेंट्स (Restaurants) हैं, और 20 अरब डॉलर से ज्यादा उनका एक साल की कमाई है।

इस दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं है, लेकिन लोग फिर भी अपने इरादे तोड़ देते हैं। कोई भी कार्य अगर सच्चे दिल से, ईमानदारी, मेहनत और लगन से किया जाय तो उसमे एक न एक दिन सफलता मिलनी ही है।

दोस्तों, ये कहानी थी महज सातवीं पास एक ऐसे शख्स Colonel Harland Sanders की, जिसके पास कोई Technical या Professional डिग्री नहीं थी, उच्च शिक्षा तक नहीं थी, पास में धन भी नहीं था और 1009 बार नकारे जाने के बावजूद तमाम संघर्षों, मुसीबतों, निराशाओं से निकल कर ये साबित किया कि अगर आपके अंदर कुछ कर गुजरने की लगन और इच्छाशक्ति है तो आप उम्र की तमाम बंदिशों को पार करते हुए आसमान की बुलंदियों को छू सकते हैं।

अपने लक्ष्य को, सपने को, या किसी खास हुनर को पहचानिये और उनको पूरा करने की शुरुआत कर दीजिये और तब तक लगें रहें, जब तक की आप सफल न हों जाएँ।

अन्य Motivational Success Stories और POST भी पढ़े

सनम्र निवेदन: दोस्तों आप लोगों तक ऐसे Quality Content पहुँचाने के लिए हमें बहुत मेहनत लगती है । हमारा एक ही उद्देश्य है की ऐसे Hindi Motivational Story ज्यादा से ज्यादा लोगों को पढ़ने को मिले । आप से एक छोटा सा निवेदन है कि आप हमारा लेख Facebook, Google+, Twitter पर अपने दोस्तों के साथ जरूर share करे । हमारी new post update फेसबुक पर पाने के लिए हमारा फेसबुक फैन पेज जरूर like करे।

यदि आपके पास भी कोई article, inspirational or motivational story, best quotes of famous personalities हो और आप उसे लोगों के साथ share करना चाहते हो तो [email protected] पर भेज सकते है। पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो (आपकी इच्छानुसार) के साथ यहाँ AchhiBaatein.com पर PUBLISH करेंगे ।

 

About Author

Mahesh Yadav is a software developer by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts, before that he had completed BE and MBA in Operations Research. He have vast experience in software programming & development.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss

1 Comment

Leave A Reply