खुशियों की परिभाषा औरो के लिए जीना Happiness Tips

1

Happiness Tips in Hindi, Healthy & Happy Life Tips, Khush rahne ke Tips, Live Happy Stay Happy

इस संसार में कोई भी व्यक्ति अपने आप में परिपूर्ण नहीं हैं और न ही कोई ऐसा हैं जिसे हर कोई काम आता हो, हमें जीवन में हर रोज़ बहुत से व्यक्ति से मदद की आवश्कता होती हैं, अगर हम किसी से मदद मांगते हैं तो उसे भी आपसे मदद मांगने का अधिकार हैं और यहीं जीवन हैं, अगर हम किसी की सहायता करने में सक्षम हैं तो हमें ख़ुशी ख़ुशी मदद के लिए तैयार रहना चाहिए।

याद रखे परमात्मा ने संसार को रचा है और अपने बंदों की सहायता करने वालों से ईश्वर सदा प्रसन्न रहता है

इस बात में तनिक भी सन्देह नहीं हैं खुशी एक ऐसी अनुभूति है जो सभी के चेहरों पर मुस्कुराहट, आँखों मे चमक, चाल मे, मस्ती में हल्कापन और मन मे जोश भर देता है। खुशी चाहे कैसी भी हो छोटी या बड़ी, हमेशां सुख़ का अनुभव कराती है खुशी की परिभाषा सबके लिए अलग-अलग होती है, कोई किसी की सहायता करके खुश होता हैं तो कोई अपनी मजिल पाकर, कोई किसी से मिलकर तो कोई दूसरों को खुश देखकर।

आओ एक छोटी सी कहानी के माध्यम से समझते हैं,

स्वामी रामेश्वरम जब अपने आपको बादशाह कहते थे, तब लोग उनको हैरानी से देखते थे। एक बार वह अमेरिका गये, तब उनके पास कुछ नहीं था और अपनी खुद की चीजों के नाम पर बस दो लंगोटी थी।

एक स्वामी को बादशाह कहते सुन किसी विदेशी ने आश्चर्य से पूछा, “स्वामी जी, आप किस तरह के बादशाह है? कौन-सी दौलत है आपके पास? कौन सा राज्य है आपका? जहां तक मुझे पता चला है, आपके पास कुछ भी तो नहीं है, सिर्फ दो लंगोटी के सिवा।”

हँसते हुए स्वामी जी ने जवाब दिया, “अभी थोड़ी सी कमी रह गई है,  मेरे राज्य मे। यदि दो लंगोटी भी छुट जाए, तो मेरा राज्य पूरा हो जाए।”

इतना कहकर स्वामी जी ने वे दो लंगोटी भी दूर फेक दी। विदेशी हैरानी से उन्हें देखता रहा। स्वामी जी ने नग्न अवस्था मे कहा, “अब मै सचमुच का बादशाह हूँ, क्योंकि मेरे पास खोने को अब कुछ नहीं है। और मैं इस हाल मे भी बहुत खुश हूँ।”

“खुशी को आप जितनी ज्यादा लुटाएंगे, उतनी ही वह आपके पास ज्यादा आएगी। कभी पैसे के रूप में, तो कभी सफलता के रूप में।”

कभी दुसरे के बारें में सोच कर देखिए, उनकी ख़ुशी के बारें में।

कभी अपने अलावा दूसरों के बारे मे सोचकर देखे, किसी के उदास चेहरे पर हँसी लाकर, उसकी उदासी दूर करके देखे। कुछ पलों के लिए सही, दूसरो के चेहरे पर मुस्कान लाने का प्रयास तो करे।

आप अपनी इच्छा और तकलीफ, दुख –दर्द और परेशानीयों अपनों की खुशी के लिए भुल जाओ। दूसरों के लिए जियो और उनकी खुशी के लिए, अपने लिए तो सब जीते है दूसरों के लिए जीना सीखो, आपको इस बात मे बहुत खुशी मिलेगी।

अपनी सोच में थोडा सा बदलाव करके देखो, सब कुछ अच्छा लगेगा। कभी किसको निराश मत करो, खुद भी खुश रहो और दूसरों को भी खुश रखने का प्रयास करो।

संसार के सबसे बड़े और सफल व्यक्ति के जीवन मे एक बात सामान्य है वह दूसरों के लिए सदभावना और उनके लिए भी समय और धन का निवेश करता हैं। एक बात तो यह सच है कि केवल अपने लिए जीवन जीने वाले लोगो को आसानी से सफलता नही मिलती।

और जब आप दूसरों के लिए भी अपनी सफलता और संसाधन का उपयोग करना शुरू कर देते है, तब वह सफलता औरो के लिए मिसाल बन जाती है।

अगर किसी बात में उलझ गए हो, कोई नहीं बातचीत से निकालने का प्रयास करें

वास्तव मे परेशानी बहुत छोटी होती है, वह भी चिन्तित व्यक्ति के मन के लिए बहुत बड़ा रूप ले लेती है और कई बार तो केवल उनके बारे मे बातचीत करने से ही हल निकल आता है हम जब तक उस बारे में किसी से बात नहीं करते तब तक हमारी परेशानी दूर नहीं होगी। कभी-कभी हम छोटी से बात का भी राई का पहाड़ बन लेते है जबकि वह बात बहुत छोटी सी होती है।

ऐसा नहीं है कि दुखी और परेशान लोगो को ढूंढने सड़क पर जाना पड़ेगा या घरो मे घंटी बजा कर पूछना पड़ेगा। अपने घरो, दोस्तों या जहां आप काम करते है या अपने आस-पास कही भी अनेक लोग मिल जाएगे, दूसरों को खुशी देने के लिए किसी डिग्री या फीस की आवश्यकता भी नही होती है।

सबसे बढ़िया मंत्र हैं खुश रहे और खुश रहने दे

एक दूसरों का दुःख-दर्द समझने और छोटी बातो से खुश रह सकने की समझ, हम सब मे प्राकृतिक रूप से होती है यदि हम अपने मन मे किसी तरह यह विचार जमा सके कि हम दूसरों की परेशानी नहीं बनेगें और उनकी चिंता को फिजूल कहकर हंसी मे नहीं उड़ा देगे, तो यह बात भी कुछ कम नहीं है।

आपने अपने से बड़ो के मुहं से यह बात ज़रूर सुनी होगी कि दिन भर मे एक काम अच्छा ज़रूर करो। यही हैं वो अच्छा काम दूसरों के लिए जी के देखो अपने लिए तो सब जीते है। दूसरों के दुःख समझो और उन्हें दूर करो।

खुश रहने के गुरुमंत्र या कह लीजिए तनाव से दूर रहने का मन्त्र

“ज़िन्दगी में खुश रहने के दो तरीके है- पहला, सब लोगो पर यकीन करना और दूसरा, सब लोगो पर संदेह करना।”

दोनों ही तरीके आपको तनाव से बचाएगे।

“जिस तरह नदियाँ अपने जल को समुद्र मे बहाकर ले जाती है, वैसे ही खुशी मनुष्य को वहां पर पंहुचा देती है, जहां से खुशी शुरू होती है।”

“बड़ी खुशी और कामयाबी तब मिलती है, जब आप अपनी आंतरिक योग्यताओं को पहचान लेते है और फिर उन्हे आधार बनकर आगे बढ़ते हैं।”

ज़िन्दगी को खुशियों और उपलब्धियों के उजाले से रोशन करने के लिए, आपको अपने भीतर आत्मविश्वास का दीपक जलाना ही होगा।”

खुश रहना कितना आसान हैं, खुश रहने के कुछ आसान तरीके

सभी लोग अपने जीवन में न जाने क्या-क्या खोजते रहते है, जीवन से न जाने क्या-क्या पाने की आशा रखते है। यह सोचते है कि अगर हमे यह हासिल हो गया तो हम जीवन भर सुखी रहेगे, इस वजह से छोटी-2 खुशी को अनदेखा कर देते है, हमे अपनी सोच इसी सोच को बदलना चाहिए।

“चित के खुश रहने से सब दुःख खत्म हो जाते है।”

जिसे खुशी प्राप्त हो जाती है, उसकी दिमाग हमेशा के लिए स्थिर हो जाता है।”

याद रखिए

  1. आपको अधिकार है खुश रहने का।
  2. स्वीकारे जैसे भी है आप।
  3. जहां भी रहे खुश रहे आप।
  4. पहचाने अपने जीवन मूल्य को।
  5. अपने जीवन को सराहें।
  6. सहायता भी मांगे।
  7. दूसरों के लिए अच्छा करे।
  8. अच्छी सोच रखें।
  9. जोखिम उठाएं।
  10. सबके साथ अच्छा व्यवहार करों।

Note: Friends, सावधानी बरतने के बावजूद यदि ऊपर दिए गए किसी भी वाक्य में आपको कोई त्रुटि मिले तो कृपया क्षमा करें और comments के माध्यम से अवगत कराएं।

निवेदन: कृपया comments के माध्यम से यह बताएं कि ज़िन्दगी में खुश रहने के तरीके, तनाव से दूर रहने के उपाय वाला POST आपको कैसा लगा अगर आपको यह पसंद आए तो दोस्तों के साथ (Facebook, twitter, Google+) share जरुर करें।

About Author

Jyoti Yadav is a Digital Marketing analyst by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts. She has experience in Digital Marketing and specializing in organic SEO, social media marketing, Affiliate Marketing.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter gplus pinterest rss

1 Comment

Leave A Reply