पहले खुद को बदलने का संकल्प लें – Secrets of Success in Hindi

1

Change yourself to make your dreams come true in Hindi, Secrets of Success in Hindi, Achieve Goals

आसमान को छूने के लिए संकल्प की जरुरत होती हैं, मेहनत की नहीं। पक्के इरादों की जरुरत होती हैं, संसाधनों की नहीं। होंसलो की जरुरत होती हैं, ताकत की नहीं।

इसलिए “Secrets of Success” जानने से पहले खुद को बदलने का संकल्प ले और नीचे दिए गए नियमों का पालन करें।

अपने लक्ष्य (Goal) पर ध्यान दें।
लियो टालस्टॉय ने कहा था “आप अपने लक्ष्य के अनुरूप व्यवहार करें, फिर ईश्वर आपकी सहायता के लिए खुद जमीन पर उतर आएंगे” आपको अपने आप से एक वादा करना होगा कि आप कभी भी अपने लक्ष्य को नहीं भूलेंगे और उसी दिशा में हमेशा प्रयास करते रहेंगे।

Age को कभी बाधा न बनने दें।
जब भी आप अपनी उम्र को खुद पर हावी होने का मौका देंगे, तब आप बहुत से अवसरों का लाभ उठाने से चूक जायेंगे फिर आप वे काम करना शुरू कर देंगे, जिन्हें करने के लिए आपका दिल कभी राजी नहीं होगा
इसलिए उम्र के लिहाज से काम करने के बारे में सोचना बंद कर दे।

सबका चहेता बनने की कोशिश करे।
लम्बी बहसों से दूर रहे वाले लोग हमेशा खुश रहते हैं, क्योकि वे क्रोध को अपने ऊपर हावी नहीं होने देते इसलिए आप दूसरों के नजरिये को समझिये और उनके करीब रहने का प्रयास कीजिये।

खुद पर भरोसा रखें।
खुद पर भरोसा रखे अपना काम ठीक से करें, अच्छी आदतों को अपनाएं साथ ही अपनी छिपी हुई प्रतिभा का विकास भी करें फिर अपने व्यक्तित्व के दुसरे पहलु की खोज करें, उसके बाद आप पायंगे की आपको खुद पर भरोसा होने लगा हैं और यह आपको अपने लक्ष्य की और बढ़ने में मदद करेगा।

गुस्से (temper) पर नियंत्रण रखे।
यह काम वैसे तो आसन नहीं हैं लेकिन ये है बहुत ही जरुरी, अगर आप बात बात अपना आपा खो देंगे तो लोक-वयवहार में कमी आएगी और आपको अपने लक्ष्य प्राप्त करने में ज्यादा समय लगेगा।
कुछ उपाय हैं गुस्सा कम करने के आशा हैं helpful होंगे।
1) रोज नारियल पानी पियें।
2) चन्दन के पेस्ट को अपने माथे पर लगाये।
3) तले हुए मसालेदार खाने से परहेज करे।
4) और लाल रंग से दूर रहने का प्रयास करें क्योकि यह आपके अन्दर गुस्सा उत्पन्न करता हैं।

मदद लेने के लिये तैयार रहें।
मदद मांगने से हिचकिचाए नहीं, दूसरों की मदद से लक्ष्यों को पाना आसन हो जाता हैं और हाँ मदद मांगते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखें  कि आपसे दूसरा व्यक्ति होशियार हैं और वह जयादा बुद्धिमान हैं, ऐसा सोचने से आप मदद लेने से हिचकिचाएंगे नहीं।

कल्पना शक्ति का विस्तार करे।
आपका मस्तिष्क बहुत से स्त्रोतों से ideas को ग्रहण करता हैं परन्तु कल्पना शक्ति का विस्तार करने के लिए उन विचारों को छोड़ना पड़ता हैं जिनके साथ आप वर्षो से चिपके हुए हैं, ऐसा करने से ही आपके मस्तिष्क में नए विचार आने शुरू हो जाएंगे।

अपने अन्दर के बच्चे को जीवित रखें।
ऐसा करने से आप जीवन के हर मोड़ पर मिलने वाली छोटी-बड़ी ख़ुशी का लुफ्त उठा पायेंगे और यह आपको हमेशा जवान रहने का अहसास करायेगा।

Computer से अधिक दोस्ती न करे।
Computer आपकी जिन्दगी का एक सबसे महतवपूर्ण हिस्सा बन चूका हैं परन्तु जरुरत से जयादा इसका इस्तेमाल करने से आपको काफी नुकसान उठाना पड़ सकता हैं।
इसकी electro-magnetic rays के नकारात्मक प्रभावों को बेअसर करने के लिए अपनी आँखों पर चश्मा लगाये और हर 40-50 मिनट के बाद छोटा विराम अवश्य ले।

रचनात्मक (creativity) पर ध्यान दें।
जब आप अपने मस्तिष्क का सही उपयोग करते हैं तब आप हकीकत में रचनात्मक बन जाते हैं क्यों कि एकाग्रता से ही रचनात्मक बना जा सकता हैं और ये ही क्वालिटी से आपके दिमाग के सारे बंद दरवाजे खोल देती हैं।

सपने के बारे में ध्यान से सोचे।
सुबह उठ कर सबसे पहले अपने उस सपने के बारे में सोचे, जो आपने जागने से पहले देखा था उससे आपको एक अदभुद शक्ति प्राप्त होगी फिर उनकी व्याख्या करे यदि वह आपको अच्छा लगे, तब उस पर काम करना शुरू कर दे फिर आपका वह सपना हकीकत में बदलना शुरू हो जायेगा।

E-mail शिष्टाचार का ध्यान रखे।
E-mail आज के समय में संचार का सबसे तेज तरीका बन चूका हैं इसलिए अनुमान लगाया जा रहा हैं की दुनिया भर में रोजाना लगभग तीन अरब से भी अधिक emails भेजी जाती हैं लेकिन e-mail भेजने से पहले गलतियों पर ध्यान दे फिर spell-check tool का प्रयोग करें परन्तु e-mail का जबाब जल्दी दे और यदि जयादा परेशानी हो तो अगले दिन जरुर भेज दे।

भावनाओं में न बहे।
भावनाओ को उमड़ने से न रोके क्योकि जब आप अपनी भावनाओ को दूसरों के सामने व्यक्त करते हैं तब खुद को हल्का महसूस करते हैं इसलिए अपनी भावनाओ को एक इमारत के रूप में देखे क्योकि जब आप अपनी भावनाओ को दबा कर उन पर नकारात्मकता की लम्बी इमारत कड़ी करेंगे तब वह ढह सकती हैं।

आशावादी बने।
मैं ऐसा चाहता हूँ की जगह में आशा करता हूँ कहें यह आपके अन्दर आशावादी  द्रष्टिकोण (hope) पैदा करेगा।

सीमाओ को जाने।
आप उस व्यक्ति को कुछ नहीं समझा सकते, जो आप पर विश्वास नहीं करता लेकिन सीमा में रहते हुए आप अपनी तरफ से प्रयास जरुर करें इस तरह आप खुद को बेहतर साबित कर सकते हैं।

हंसने का बहाना ढूंढे।
कौन कहता हैं कि आपके पास हंसने का मौका नहीं हैं एक बार हँसने का प्रयास तो कीजिये, आप हास्य गुरु बन जायेंगे क्योकि शहरों में laughter clubs के खुलने से पता चलता हैं की बेहतर मानसिक, भावनात्मक, अध्यात्मिक और सामाजिक स्वास्थ्य के लिए हँसना जरुरी हैं।

नेतृत्व (leadership) में थोड़ी सी ढील अवश्य बरते।
नेता होने का अर्थ हैं नहीं हैं की आप जानता के भगवान बन गए हैं इसलिए अपने अधीन लोगो को आजादी दे, फिर वे आपके निर्देशों का सख्ती से पालन करेंगे।

शिष्टाचार निभाने की कोशिश करे।
शिष्टाचार किसी भी आदमी को महान बना सकता हैं इसलिए इन बातों का ध्यान रखे।
– क्या आप बहुत ज्यादा बात करते हैं?
– क्या आप अपनी सीट पर बैठकर कुलबुलाते रहते हैं?
– क्या आप अपने बालो या हाथो के साथ खेलते रहते हो?
– क्या आप धीरे या तेज बोलते हैं?
– क्या आप हस्तक्षेप करते हैं?
यदि आपको इन सवालो से भी पता न चल पायें तब आप अपने किसी दोस्त से पूछ ले फिर आप उसमें सुधार करें।

स्मरण शक्ति (याददास्त) को तेज करे।
यदि आपको कोई चीज याद नहीं रहती है तो उसको जोर-जोर से पढ़े फिर आप पाएंगे की वह चीज आपको 50% ज्यादा याद हो चुकी हैं अच्छी स्मरण-शक्ति व्यक्ति की personality को बढाती हैं।

प्रकृति से प्रेम करे।
अपने आस-पास एक प्राकर्तिक वातावरण बनाये फिर ठंडी हवा के झोको और सूर्य के ताप को अपने चेहरे पर महसुसू करे, यह जैव-रासायनिक क्रिया आपको शक्ति प्रदान करेगी।

नहीं कहने की आदत डाले।
हाँ कहने से पहले एक बार सोचे और नहीं कहना सीखें क्योकि अगर कोई काम आप नहीं कर सकते हैं तो उसके लिए हाँ कहनें से आप को वह काम करना होगा और यदि आप सही न कर पाए तो लोगो को आपकी बुराई करने का मौका मिलेगा।

Body Language को ठीक रखे।
अपनी body language ठीक रखे क्योकि body language एक व्यक्ति के बारे में सब कुछ बयां कर देता हैं इसलिए संकोची प्रवर्ती को छोड़ कर अपने अन्दर आत्मविश्वास जगाये और दूसरों पर अच्छा प्रभाव छोड़ने के लिए इशारों को समझे।

Professional बनने की कोशिश करे।
अपनी बातचीत और प्रदर्शन को प्रभावशाली बनाने के लिए अमीर लोगो से प्रेरणा ले, क्योंकि केवल व्यावसायिक सूट पहनना आपके पेशेवर होने को परिभाषित नहीं करता।

अपनी शक्ति को जगाये।
कभी भी दूसरों पर निर्भर न रहे और न चीजों को खुद अपने तरीको से अकेले में करने की कोशिश करे, जो आपको मुश्किल लगती हैं।

खुद को परखते रहे।
जब आप किसी गम्भीर मामले में गलती करते है तब खुद को उस आधार पर परखे, जिस पर आप दूसरों को परखते हैं।

चलने का तरीका ठीक करे।
चलने का तरीका आपके कई रहस्यों से पर्दा उठा सकता हैं क्योकि जब आप छाती को आगे करके गर्व चलते हैं, तब यह आपकी शक्ति का प्रदर्शन करता हैं लेकिन जब आगे की और झुक करके चलते हैं तब यह आपके एक हारे हुए व्यक्ति के रूप में प्रदर्शित करता हैं।

डर पर विजय पाए।
डर पर विजय सफलता को जन्म देता हैं।
डर पर विजय आपके दबे हुए उत्साह को बढ़ाएगा और आपको आगे बढ़ने में मदद करेगा।
इस point पर मैंने पहले भी एक post किया हैं उसको भी पढ़े “डर मुर्खतापूर्ण हैं”

Health के प्रति सचेत रहें।
सेहत से सुन्दरता का गहरा रिश्ता हैं इसलिए संकल्प ले कि समय पर सोयंगे समय पर जागेंगे, समय पर भोजन करेंगे और नियमित रूप से morning walk पर भी जायेंगे या फिर exercise के लिए भी समय निकालेंगे।
इसका फायदा आपको सकरात्मत्क उर्जा के रूप में मिलेगा।

Time management अपनाये।
सभी व्यक्तियों के लिए दिन में 24 घंटे ही होते हैं लेकिन फिर भी कई लोग कहते हैं की time नहीं मिलता, मुझे समय नहीं मिला, इसलिए time management अपनाईये, फिर आप अपने समय का लेखा-जोखा बनाने के बाद आप अपने सारे काम समय पर निपटा लेंगे।

अपने हुनर को विकसित करे।
हर मनुष्य के अन्दर कोई न कोई हुनर छिपा होता हैं लेकिन जरुरत होती हैं उसे विकसित करने की। इसलिए उस हुनर को खोजें और उसे पूरा करने का संकल्प लें।

उद्देश्यपूर्ण जीवन जिए।
सफल जिंदगी जीने के लिए जीवन में कोई न कोई उद्देश्य अवश्य बनाएं।

मनोबल को मज़बूत रखे।
लोगो पर प्रभाव ज़माने के लिए संकल्प ले और अपनी रूचि, उम्र तथा परिस्थिति के अनुसार संकल्प को पूरा करने के मापदंड बनाएं उसके बाद सकारात्मक विचारों से प्रोत्साहित करें।

आत्मविश्वास(self-confidence) से भरपूर रहे।
संकल्प को पूरा करने के लिए आत्मविश्वास का होना बहुत जरुरी हैं इसलिए अपने मन में दोहराएं “मैं अपना लिया गया संकल्प पूरा करूँगा”।
स्वेट मार्डन ने भी कहा हैं था कि “जैसे आपके विचार होते हैं वैसी ही आपकी शारीरिक स्थिति बन जाती हैं
स्वामी विवेकानन्द भी यही कहते थे की “अच्छे विचार आपकी प्रेरणा के स्त्रोत्र होते हैं”।

यह भी पढ़ें, read some more motivational Quotes, Thoughts & Energetic Post in Hindi

Note: Despite taking utmost care but there could be some mistakes in Hindi Translation, if you faced any type or error during reading please share with your valuable comments.

निवेदन: कृपया comments के माध्यम से यह बताएं कि यह post “पहले खुद को बदलने का संकल्प लें आपको कैसा लगा अगर आपको यह पसंद आए तो दोस्तों के साथ (Facebook, twitter, Google+) share जरुर करें।

Save

About Author

Mahesh Yadav is a software developer by profession and like to posts motivational and inspirational Hindi Posts, before that he had completed BE and MBA in Operations Research. He have vast experience in software programming & development.

नयी पोस्ट ईमेल द्वारा प्राप्त करने के लिए Sign Up करें।
Follow us on:
facebook twitter pinterest rss

1 Comment

Leave A Reply